6 C
London
Wednesday, January 26, 2022

झारखण्ड राज्य में रू0 3,550 करोड़ की लागत से कुल 539 किलोमीटर लंबी कुल 21 सड़क परियोजनाओं का लोकार्पण एवं षिलान्यास का कार्यक्रम

श्री नितिन गडकरी जी, माननीय मंत्री सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय, के कर कमलों द्वारा माननीय मुख्यमंत्री, झारखंड श्री हेमंत सोरेन जी की अध्यक्षता एवं श्री वी0के0 सिंह, माननीय राज्य मंत्री सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय की उपस्थिति में दिनांक 03.04.2021 को किया जाएगा।

21 सड़क परियोजनाओं में एनएचएआई के देख रेख में बनाई गयी 5 सड़क परियोजनाओं महुलिया-बहरागोड़ा-झारखंड/पं. बंगाल बार्डर, बरही-हजारीबाग खण्ड, कचहरी चैक से बिजुपाड़ा खंड, बिजुपाड़ा से कुडु खंड, पिस्का मोड़ से पलमा खंड के चैड़ीकरण जिसकी कुल लंबाई 217 किलोमीटर एवं लागत 2744 करोड़ रू. है एवं सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के 52 करोड़ की लागत से 2 सड़क परियोजनाओं का सुदृढ़ीकरण का लोकार्पण तथा 754 करोड़ की अनुमानित लागत के साथ 14 परियोजनाओं का षिलान्यास सम्मिलित है।

महुलिया-बहरागोड़ा-झारखंड/पंव बंगाल बार्डरः

यह सड़क महुलिया से बहरागोड़ा तक एनएच 33 एवं बहरागोड़ा-झारखंड/पं0 बंगाल बाॅर्डर तक एनएच-6 का अनुभाग है और इस खंड की कुल लंबाइ्र्र 72 किलोमीटर है।

इस खण्ड के 4 लेन का कार्य सितम्बर 2016 में शुरू हुआ और अक्टूबर 2019 में पूर्ण किया गया। इसकी लागत 1116 करोड़ है।

यह खंड महुलिया से शुरू होकर गालूडीह, घाटषीला, धालभूमगढ़, कोकपाड़ा बहरागोड़ा होते हुएचिचिड़ा (पष्चिम बंगाल बार्डर) पर समाप्त होती है।

इसके निमार्ण से झारखंड राज्य की उडी़सा एवं पं. बंगाल से कनेक्टिविटी बढ़ी है तथा बड़बिल, ओडिसा से पं. बंगाल, झारखंड एवं अन्य राज्यों में स्थित स्टील प्लांट को लौह अयस्क आपूर्ति हेतू यातायात में सुविधा होगी।

बरही हजारीबाग खंडः

यह सड़क एनएच 33 का महत्वपूर्ण भाग है। इस खण्ड की कुल लंबाई 41 कि.मी. है। इस खण्ड के 4 लेन का कार्य फरवरी, 2017 में शुरू हुआ और फरवरी, 2021 में पूर्ण किया गया। इसकी लागत 712 करोड़ है।

इस खंड के निर्माण से पटना-रांची आर्थिक कोॅरिडोर को मजबुती मिली है, साथ ही साथ बरही एवं हजारीबाग के आस-पास के ग्रामीण इलाकों की रांची से कनेक्टिविटी बढ़ी है जिससे इस क्षेत्रों में रोजगार के अवसर सृजन होंगे।

यह खंड बरही में दिल्ली-कोलकाता राजमार्ग (एनएच-2) पर मिलता है जिससे रांची का दिल्ली और कोलकाता से सीधा संपर्क जुड़ता है।

कचहरी चैक से बिजुपाड़ा खंड का चैड़ीकरणः

यह सड़क एनएच 75 का अनुभाग है। इस खंड की कुल लंबाई 34 कि.मी. है। इस खण्ड के 4 लेनीकरण का कार्य दिसम्बर, 2017 में शुरू हुआ और अगस्त, 2019 में पूर्ण किया गया। इसकी लागत 385 करोड़ है।

इसके खण्ड बिजुपाड़ा एवं अन्य आस-पास के इलाके के ग्रामीणों को राजधानी रांची से जोड़ती है।

इसके चैड़ीकरण से इन क्षेत्रों के लोगों को रांची आने-जाने में सुगमता होगी, जिससे रोजगार सृजन होंगे एवं इन क्षेत्रों में गरीबी मिटाने में सषक्त माध्यम बनेगा।

घाघरा से गुमला तक का सुदृढ़ीकरण, एनएच 143ए (लम्बाईः 27 कि.मी., लागतः 24 करोड़)।

हाटगम्हरिया से जैंतगढ़ तक का सुदृढ़ीकरण एनएच 75ई (लम्बाईः 27.56 कि.मी., लागतः 27.90 करोड़)।

षिलान्यास होने वाले परियोजनाएं।

    गोनिया से चन्दवा का चैड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण, एनएच 99 (लम्बाईः 38 किमी, लागतः 114 करोड़)।

    चन्दवा-टोरी पर आरओबी का निर्माण, एनएच 99 (लागतः 43 करोड़)।

  टावर चैक दुमका से बासुकीनाथ मार्ग का चैड़ीकरण एनएच 114ए (लम्बाईः 22 किमी, लागतः 148 करोड़)।

  छिन्दा नाला पर पुल का निर्माण एनएच 23 (लागतः 5 करोड़)।

कोलेबेरा से सिमडेगा तक का सुदृढ़ीकरण एनएच 23 (लम्बाईः 36 किमी, लागतः 38 करोड़)।

   सिमडेगा से बाँसजोर तक का सुदृढ़ीकरण एनएच 23 (लम्बाईः 39 किमी, लागतः 39 करोड़)।

  सराय पानी झरना नाला पर पुल का निर्माण, एनएच 23 (लागतः 2 करोड़)।

  गोसाईडीह-बिहार-झारखण्ड सीमा से जोरी का सुदृढ़ीकरण एनएच  99 (लम्बाईः 19 किमी, लागतः 50 करोड़)।

सिंघानी चैक से बनादाग का सुदृढ़ीकरण एनएच 100 (लम्बाईः 15 किमी, लागतः 22 करोड़)।

हतबन्धा, ललमटिया से गोड्डा का सुदृढ़ीकरण एनएच 133 (लम्बाईः 37 किमी, लागतः 35 करोड़)।

अन्नराज घाटी में सुरक्षा एवं ट्रैफिक सुधार उपाय एनएच 343 (लागतः16 करोड़)।

  उसरी पुल एवं बराकर पुल का पुनर्वास/मरम्मत एनएच 114ए एवं 419 (लागतः 3 करोड़)।

     उसरी पुल एवं बराकर पुल का पुनर्वास/मरम्मत एनएच 114ए एवं 419 (लागतः 3 करोड़)।

  मुर्गातल से बैंक मोड़ धनबाद का सुदृढ़ीकरण एनएच 218 (लम्बाईः 44 किमी, लागतः 85 करोड़)।

Share this project :

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on telegram

Welcome To Subinfra

Get information of Exclusive Projects
Hurry Now!!!